ओनली एण्ड स्योरली आर्गेनिकर: यूकेलिप्टस एवं मस्टर्ड हनी कम जमता है

soulofindia
हरिद्वार। मुख्य विकास अधिकारी प्रतीक जैन ने लक्सर रोड स्थित पदार्था (गांव मुस्तफाबाद) के हनी प्रोसेसिंग यूनिट ’’ओनली एण्ड स्योरली आर्गेनिक (ओ0एस0ओ0) एग्रो प्रोडक्ट्स का विकासात्मक दृष्टि से दौरा किया। मुख्य विकास अधिकारी प्रतीक जैन को हनी प्रोसेसिंग यूनिट ’’ओनली एण्ड स्योरली आर्गेनिक(ओ0एस0ओ0) एग्रो प्रोडक्ट्स के एम0डी0 निर्मल वाष्र्णेय ने हनी प्रोसेसिंग यूनिट में विभिन्न क्षेत्रों से इकट्ठा करके कई ड्रमों में रखे हुये अलग-अलग किस्मों के शहद के सम्बन्ध में विस्तृत जानकारी दी। उन्होंने सबसे पहले बिजनौर से आये हुये शहद की विशेषताओं के सम्बन्ध में बताया। इसके बाद जैसे ही आगे बढ़े तो कुछ ड्रमों में राजस्थान से आया हुआ शहद रखा गया था, जिसके बारे में उन्होंने बताया कि यह हमने प्रोसेस करके रखा है, लेकिन फिर भी इसकी खासियत यह है कि यह जम जाता है। उन्होंने कहा कि यूकेलिप्टस एवं मस्टर्ड हनी कम जमता है।
एग्रो प्रोडक्ट्स के एम0डी0 निर्मल वाष्णेय ने एक-एक करके विभिन्न ड्रमों में रखे हुये लीची हनी, जामुन का शहद, मल्टी फ्लोर हनी, जो जिम कार्बेट कालाढूंगी से इकट्ठा करते हैं, धनिया का शहद, जो मध्य प्रदेश से आता है, खैर(कत्था) का हनी, बबूल हनी आदि के सम्बन्ध में विस्तृत जानकारी दी। मुख्य विकास अधिकारी प्रतीक जैन ने इसके बाद हनी प्रोसेसिंग यूनिट में शहद के कच्चे माल से कैसे शहद को विभिन्न मशीनों के माध्यम से कई प्रक्रियाओं से गुजरते हुये कैसे शहद को परिष्कृत करने के बाद विभिन्न आकार की पैकिंग(बोतलों में) की जाती है, के सम्बन्ध में एग्रो प्रोडक्ट्स के एम0डी0 से विस्तृत जानकारी लेते हुये, शहद की पूरी प्रोसेसिंग प्रक्रिया को दिलचस्पी के साथ जाना तथा प्रोसेसिंग यूनिट की सिस्टेमैटिक कार्य प्रणाली तथा आर्गेनिक प्रोडक्ट की भूरि-भूरि प्रशंसा की। इस मौके पर एग्रो प्रोडक्ट्स के एम0डी0 ने बताया कि अगर हमें प्रोसेस किया हुआ शहद बाहर से मिलने लग जायेगा तो हमें पैकेजिंग में काफी सुविधा होगी।
प्रतीक जैन ने इसके अतिरिक्त ’’ओनली एण्ड स्योरली आर्गेनिक(ओ0एस0ओ0) एग्रो प्रोडक्ट्स द्वारा तैयार किये जा रहे शुद्ध आर्गेनिक सरसों तेल-कच्ची घानी तथा पीली सरसों एवं जैगरी की पैकेजिंग प्रक्रिया को भी काफी बारीकी से देखा। उन्होंने इस मौके पर एग्रो प्रोडक्ट्स द्वारा स्थापित लैब का भी दौरा किया तथा माल की शुद्धता की कैसे जांच करते हैं, के सम्बन्ध में भी जानकारी ली। इस मौके पर मुख्य विकास अधिकारी ने कोआपरेटिव के माध्यम से आर्गेनिक शहद आदि का जनपद में और कैसे ज्यादा से ज्यादा उत्पादन तथा विकास किया जा सकता है एवं इसके निर्यात की क्या संभावनायें है, के सम्बन्ध में अधिकारियों के साथ गहन मंत्रणा की। इस अवसर पर परियोजना निदेशक जिला ग्राम्य विकास अभिकरण श्री विक्रम सिंह, जिला उद्यान अधिकारी ओम प्रकाश, ए0आर0कोआपरेटिव राजेश, ’’ओनली एण्ड स्योरली आर्गेनिक एग्रो प्रोडक्ट्स के एसोसिएट्स सहित सम्बन्धित अधिकारीगण उपस्थित थे।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Share