शिक्षक दिवस पर कार्ड-कविताओं तथा स्पीच द्वारा अपने शिक्षकों को दिए बधाई संदेश

5 सितंबर एक ऐसा दिन जिस दिन भारत के द्वितीय राष्ट्रपति आदरणीय श्री सर्वपल्ली राधाकृष्णन जी का जन्म दिवस पूरे देश में शिक्षक दिवस के रूप में मनाया जाता है इस वर्ष का शिक्षक दिवस इसलिए भी खास हो जाता है

शिक्षक दिवस पर  कार्ड-कविताओं तथा स्पीच द्वारा अपने शिक्षकों को  दिए बधाई संदेश
students
शिक्षक दिवस पर  कार्ड-कविताओं तथा स्पीच द्वारा अपने शिक्षकों को  दिए बधाई संदेश

हरिद्वार। शिक्षक दिवस के अवसर पर ज्ञान गंगा अकैडमी जगजीतपुर में विभिन्न एक्टिविटीज का आयोजन किया गया कोऑर्डिनेटर श्रीमती सीमा ने बताया कि बच्चों को 2 दिन  पहले कोई कार्ड, कोई स्पीच, कोई कविता या गीत के माध्यम से  शुभकामनाएं संदेश अपने शिक्षकों को  के लिए तैयार करने को प्रेरित किया गया जिसमें बच्चों को पूरी तरह से आजादी थी कि वह किसी एक या एक से अधिक माध्यम से भी अपने बधाई संदेश दे सकते हैं बच्चों ने बढ़ चढ़कर एक्टिविटीज में पार्टिसिपेट किया तथा कार्ड मेकिंग मैं अनमें,चिरायु, प्रियांशु ,पूर्वी,भव्या, हर्षिता जोशी,वैशाली, आराध्या, अक्षत , मीनाक्षी, दीक्षा, आस्था, प्रखर,  तनिष्क व अभिरव तो वही कविता पाठ में गौरांशी, कृतिमां पंचोली, दीक्षा जोशी, हर्षिता जोशी चिरायु,विवेक ,आरूष , आरव, अक्षत, गौरी कंडवाल तथा वैशाली का कार्य सराहनीय रहा।

प्रधानाचार्य श्रीमती मीरा पंचोली ने अपने शुभकामना संदेश में कहा कि ,"5 सितंबर एक ऐसा दिन जिस दिन भारत के द्वितीय राष्ट्रपति आदरणीय श्री सर्वपल्ली राधाकृष्णन जी का जन्म दिवस पूरे देश में शिक्षक दिवस के रूप में मनाया जाता है इस वर्ष का शिक्षक दिवस इसलिए भी खास हो जाता है  क्योंकि इस महामारी के दौर में  एक विशेष जिम्मेदारी शिक्षकों के ऊपर भी आई और वह है कि विद्यालय सुचारू रूप से ना चलते हुए भी विद्यार्थियों की पढ़ाई सुचारू रूप से चले जो कि आसान बात नहीं  थीइस महामारी के दौर मैं  डॉक्टर, पुलिसकर्मी, सफाई नायक, बैंक कर्मी, पोस्ट ऑफिस  मैं कार्यरत लोग  तथा शिक्षक गण निरंतर काम कर रहे हैं और बच्चों को  निरंतर ऑनलाइन माध्यम से पढ़ाने का प्रयास कर रहे हैं तथा उसमें सफल भी हो रहे है

ऑनलाइन पढ़ाना कोई आसान काम नहीं था परंतु शिक्षक जो बच्चों का भविष्य बनाते हैं आज उन्होंने भी नई नई तकनीक को अपनाया तथा निरंतर अपने कर्तव्यों का पालन कर रहे हैं जिसके लिए आज सभी शिक्षक गण साधुवाद के पात्र हैं तथा उनके इस प्रयास के लिए मैं सभी शिक्षक गणों को हृदय से धन्यवाद  ज्ञापित करती हूं

 इस उपलक्ष पर श्रीमती सीमा, पूनम, गीता, पूजा तथा श्री विनीत चौहान व संदीप भारद्वाज जी उपस्थित रहे