कैबिनेट मंत्री हरक बोले सन्यास तो नहीं, पर अगला चुनाव नहीं लड़ूंगा

कैबिनेट मंत्री को श्रम विभाग के भवन एवं सन्निर्माण कर्मकार कल्याण बोर्ड के अध्यक्ष पद से हटाए जाने से प्रदेश की राजनीति भविष्य में कुछ नयी करवट ले सकती है। प्रदेश के वन एवं पर्यावरण मंत्री डॉ. हरक सिंह रावत ने ऐलान किया है कि वह वर्ष 2022 में होने वाला अगला विधानसभा चुनाव नहीं लड़ेंगे। लम्बी चुप्पी तोड़ने के साथ ही उन्होंने यह भी जोड़ा कि वह राजनीति से संन्यास नहीं ले रहे हैं।

कैबिनेट मंत्री हरक बोले सन्यास तो नहीं, पर अगला चुनाव नहीं लड़ूंगा

देहरादून। कैबिनेट मंत्री को श्रम विभाग के भवन एवं सन्निर्माण कर्मकार कल्याण बोर्ड के अध्यक्ष पद से हटाए जाने से प्रदेश की राजनीति भविष्य में कुछ नयी करवट ले सकती है। प्रदेश के वन एवं पर्यावरण मंत्री डॉ. हरक सिंह रावत ने ऐलान किया है कि वह वर्ष 2022 में होने वाला अगला विधानसभा चुनाव नहीं लड़ेंगे। लम्बी चुप्पी तोड़ने के साथ ही उन्होंने यह भी जोड़ा कि वह राजनीति से संन्यास नहीं ले रहे हैं। मीडिया से बातचीत में उन्होंने अचानक अगला विधानसभा चुनाव न लड़ने की बात कही। रावत ने कहा कि इसकी जानकारी उन्होंने भाजपा प्रदेश महामंत्री संगठन अजेय कुमार समेत वरिष्ठ नेताओं को दे दी है। मौजूदा परिस्थितियों में उनका इस बयान के कई निहितार्थ निकाले जा रहे हैं।
कुछ अनियमिताओं के सामने आने के कारण सरकार ने हाल में उन्हें भवन और सन्निर्माण कर्मकार कल्याण बोर्ड के अध्यक्ष पद से हटाकर श्रम संविदा बोर्ड के अध्यक्ष शमशेर सिंह सत्याल को यह जिम्मेदारी सौंप दी थी। हरक सिंह रावत के पास श्रम और सेवायोजन मंत्रालय भी है। भवन एवं अन्य सन्निर्माण कर्मकार कल्याण बोर्ड के अध्यक्ष पद पर अब तक हरक सिंह रावत ही काबिज थे।हरक सिंह रावत के चुनाव न लडने के ऐलान को इस घटनाक्रम से जोडकर भी देखा जा रहा है।